Wednesday, August 14, 2019

क्या आप फ्री एटीएम ट्रांजेक्शन के नियम जानते हैं ?


Do you know the rules of free ATM transactions?



दोस्तों, आज मैं आपके लिए बहुत ही काम की खबर लाया हूँ ।

आप सभी जानते हैं कि बैंकों को तरफ से ATM ट्रांज़ैक्शन(Transaction) पर कुछ लिमिट(Limit) होती है। कुछ बैंक 3 या कुछ बैंक 5 फ्री एटीएम ट्रांज़ैक्शन allow करते हैं। अन्य बैंकों के एटीएम से transaction पर भी कुछ लिमिट होती है। इस कड़ी में बैंक हर तरह के transaction को count कर लेते हैं जैसे एटीएम में करेंसी ना होने या टेक्निकल कारणों से फेल होने वाले transactions ,एकाउंट का बैलेंस चेक करना इत्यादि।

आरबीआई की तरफ से कुछ बातें स्पष्ट की गई हैं जो कि हमे जानना आवश्यक है ताकि अब कोई भी बैंक आपके अधिकारों से खिलवाड़ ना कर सके।


जिस बैंक का कार्ड उसी का एटीएम :-


बैलेंस चेक करना, फंड ट्रांसफर करना,टैक्स पेमेंट, एटीएम से चेकबुक के लिए आवेदन करना, ये सभी फ्री transaction लिमिट में नहीं गिने जाएँगे।


अन्य बैंक का कार्ड और अन्य बैंक का एटीएम :-


तकनीकी कारणों से फेल transaction, किसी कारण से बैंक द्वारा transaction करने से मना करने, एटीएम में नगदी ना होने, गलत पिन डालने, को फ्री एटीएम transactions में नहीं गिना जाएगा।

उम्मीद है आप लोगों को ये जानकारी पसन्द आयी होगी और अब आप अपने अधिकारों को अच्छे से जान गए होंगे ताकि अगली बार बैंक आपसे बेवजह शुल्क ना वसूल सके।

You may also like :-


Fraud On OLX- A new way of online Fraud. Kindly Share It.

How do I poke someone on Facebook ?

Monday, August 5, 2019

Fraud On OLX- A new way of online Fraud. Kindly Share It.

नमस्कार दोस्तों,

July 29,2019 को मैंने olx पर अपना पुराना मोबाइल फ़ोन बेचने के लिए विज्ञापन दिया। विज्ञापन देने के एक घण्टे के अन्दर ही मेरे पास एक व्यक्ति का फोन आया।

वह व्यक्ति बहुत ही दिलचस्पी दिखा रहा था फोन खरीदने में। उसने अपना नाम मनीष कुमार बताया और खुद को वह दिल्ली की आजादपुर मंडी में काम करने वाला एक मजदूर बता रहा था।

हमारे बीच हुई बातचीत को आगे बताने जा रहा हूँ और उस व्यक्ति की पूरी जानकारी इस पोस्ट के अंत में दिए गए स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं।

Pic Credit:- Google&OneIndiaHindi


फ्रॉड व्यक्ति - आपने अभी olx पर add. डाला है मोबाइल बेचने के लिये ?

मैं - हाँ लेकिन टचपैड की 2 keys कभी कभी सही से काम नहीं करती हैं।
फ्रॉड व्यक्ति - कोई नहीं भाई, मैं डलवा लूंगा नया टचपैड। कितने का बेचोगे ?
मैं - 2500₹.
फ्रॉड व्यक्ति - मैं 2000₹ दे पाऊँगा।
मैं- कुछ सोंचने के बाद ,2200₹ में बेचूँगा।
फ्रॉड व्यक्ति - बिना कुछ सोचें, ठीक है। आप बताओ पेमेन्ट कैसे लोगे ?
मैं - जब फोन लेने आना तो कैश दे देना।
फ्रॉड व्यक्ति - नहीं मैं अभी को ट्रांसफर करवा देता हूँ पैसे। मुझे मालिक से पैसे लेने हैं तो वो ट्रांसफर कर देंगे। आप बताओ क्या क्या use करते हो, Phone Pay,Google Pay, Paytm ?

मैं- मैं तो इनमें से सभी use करता हूँ। तुम बताओ कैसे भेजोगे पैसे ?
फ्रॉड व्यक्ति - Google Pay से भेज देता हूँ। आप अपना QR कोड भेज दो मेरे नम्बर पर।
मैं- QR कोड की क्या जरूरत है ,मैं अपना नम्बर दे रहा हूँ उसपे सीधे ट्रांसफर कर दो।
फ्रॉड व्यक्ति- नहीं वो बिना QR कोड के पैसे नहीं भेजता है।
मैं - ठीक है,whatsapp पर भेजता हूँ कुछ ही मिनटों में।
(नीचे दिए गए स्क्रीनशॉट में आप देख सकते हैं कि मैंने उसको भेजा था हालांकि मैंने वो मैसेज डिलीट कर दिया था ताकि वो गलत उपयोग ना कर पाए।)


फ्रॉड व्यक्ति -भाई कॉल चलने दो,मैं तुरंत पैसे ट्रांसफर करवाता हूँ।
मैं - ठीक है।
फ्रॉड व्यक्ति - भाई मैंने ट्रांसफर करवा दिए हैं,accept करो।

मैं - ठीक हैं

(नीचे दिए गए स्क्रीनशॉट में देखिए कि उसने असल मे क्या किया था,जो लोग समझ गए तो आप वाकई टेक्नोलॉजी को समझते हैं)


मैं बताता हूँ कि असल मे उसने क्या किया था।
उसने मुझे पैसे भेजने के बजाय रिक्वेस्ट की थी। अगर मैं उस रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट करके आगे बढ़ता तो मुझसे बस मेरा पिन मांगता और हो जाता पेमेन्ट उस फ्रॉड व्यक्ति के एकाउंट में और मैं कुछ नहीं कर पाता उस केस में।

जिस तरह से वो व्यक्ति जल्दबाजी में था,मुझे पहले से ही शक था लेकिन मुझे भी फोन बेचना था तो मैं इतना आगे तक आया । यानी कि कहीं ना कही मेरा लालच ,जल्दबाजी और बिना जाँच पड़ताल के की गई सौदेबाजी मेरे लिए खतरनाक और नुकसानदेह साबित हो सकती थी।

फिर मैंने उस व्यक्ति को ब्लॉक कर दिया। आप अगले स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं -


लेकिन दोस्तों मैं यहाँ पर सारी गलती olx की मानता हूँ। मान लीजिए कि मेरी जगह कोई अन्य व्यक्ति होता जिसे Google Pay के इस फ़ीचर के विषय मे ना पता होता या उसकी english भाषा मे पकड़ इतनी मजबूत नहीं होती तो वो व्यक्ति तो जल्दबाजी में रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट कर लेता और गलती से पेमेन्ट कर देता उस फ्रॉड व्यक्ति को।

हो सकता है कि आपमें से बहुत लोग मेरी बात से सहमत ना हों लेकिन एक आम इंसान के लिए ये सभी चीजें बहुत आगे की हैं औऱ अगर Olx इसमे अपनी जिम्मेदारी ना निभाये तो ये सीधे तौर पर हमारी निजता के अधिकार का उल्लंघन है।

इसके लिए olx के रिप्रेजेंटेटिव को सबके सामने आना चाहिए और माफी मांगनी चाहिए क्योंकि olx के केस में इस तरह के काफी मामले हुए हैं और olx हर बार इससे पल्ला झाड़ लेता है।

मैं आप लोगों से निवेदन करता हूँ कि इस पोस्ट को अन्य लोगो से भी शेयर करें औऱ olx को जरूर टैग करें और भारतीय साइबर विभाग को सूचित करें।

नीचे दिए गए स्क्रीनशॉट में आप उस व्यक्ति का मोबाइल नम्बर और अन्य जानकारी देख सकते हैं -



अगर किसी को उस बातचीत की ऑडियो रेकॉर्डिंग चाहिए तो मुझे Follow by email करके ब्लॉग को follow करें और कमेंट में अपना व्हाट्सएप नम्बर शेयर करें।

इस तरह के फ्रॉड(Fraud) से अपने ग्राहकों को बचाने के लिए OLX को पेमेन्ट(Payment) खुद के through transfer करवाना चाहिए । ग्राहक आपस मे डील कन्फर्म करने के बाद OLX के जरिये पैसों का आदानप्रदान(transfer) कर सकते हैं।

अगर आपको मेरा सुझाव पसन्द आया हो और आप भी इस तरह की धोखाधड़ी(Fraud) से खुद को और अपने जानकारों को बचाना चाहते हैं तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा share करें।

धन्यवाद।

You may also like following articles:-


How to avoid Financial Frauds over the fake calls ?

How do I poke someone on facebook?


Article 35 A & 370 removed, A historical day of Indian History:- August 5,2019

नमस्कार दोस्तों,

जैसा कि मोदी सरकार 2.0 से उम्मीद को जा रही थी कि वो आर्टिकल 35A पर कुछ फैसला लेंगे,वैसा ही हुआ।

5 अगस्त 2019 हिंदुस्तान के इतिहास में एक महत्वपूर्ण तिथि के रूप में याद की जाएगी।

Pic Credit:- Google &
brandbench.com


मोदी सरकार ने आमजनमानस में राष्ट्रवाद की भावना को जगाया है और निरन्तर राष्ट्रीय हितों को सर्वोपरि रखते हुए अग्रसर है। आज देश का हर व्यक्ति खुद को भारतीय कहने में गौरवान्वित महसूस करता है। महँगाई,कानून व्यवस्था जैसी समस्याओं पर भी मोदी सरकार ने तेजी से रोक लगायी है। जीवनयापन की समस्त वस्तुओं पर कड़ा नियंत्रण किया है।

जमीन से लेकर आसमान तक,खेल से लेकर राजनीति तक,किसान से लेकर विज्ञान तक हर जगह भारतीय अपना झण्डा फहरा रहे है और देशवासियों को गौरवान्वित कर रहे हैं।

अखण्ड भारत के सपने को पूरा करने के लिए अनगिनत जवानों ने अपने प्राणों की आहुति दी और आज वो सपना पूरा हो गया है।

आप मे से बहुत लोग सोंच रहे होंगे कि क्यों इस विषय पर इतनी बात की जा रही हों तो इसके लिए आपको आर्टिकल 35A के विषय मे जानना होगा।

आर्टिकल 35A क्या है ?


जम्मू-कश्मीर राज्य के लिए स्थायी नागरिकता के नियम और नागरिकों के अधिकार, संविधान में परिशिष्ट(Appendix) के तौर पर डाले गए आर्टिकल 35A से तय होते हैं।

आर्टिकल 35A के तहत जो लोग 14 मई 1954 के पहले कश्मीर में बस गाए थे, केवल वही कश्मीर के स्थायी निवासी है।
केवल स्थायी निवासियों को ही राज्य में जमीन खरीदने, सरकारी रोजगार प्राप्त करने और सरकारी योजनाओ में लाभ लेने के अधिकार मिले हैं।
किसी दूसरे राज्य का निवासी कश्मीर में जाकर स्थायी निवासी के तौर पर न जमीन खरीद सकता है,न ही राज्य सरकार उन्हें नौकरी दे सकती है। इसके अलावा, कश्मीर की कोई महिला अगर भारत के किसी अन्य राज्य के व्यक्ति से शादी कर लेती है तो उसके अधिकार छिन जाते है परंतु पुरुषों के मामले में ये नियम अलग हैं।

आर्टिकल 35A का जिक्र संविधान में है या नहीं ?

आर्टिकल 35A का जिक्र संविधान में नहीं है दरअसल इसे संविधान के मुख्य भाग में नहीं बल्कि परिशिष्ट(Apendix) में शामिल किया गया है जिसे जवाहरलाल नेहरू की सहमति पर तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ.राजेन्द्र प्रसाद के आदेशानुसार संविधान में एक नया अनुच्छेद 35A जोड़ दिया गया।

35A हटाना क्यों जरूरी था ?

सबसे पहले तो आपको ये जानना जरूरी है को आर्टिकल 35 A संसद के जरिये लागू नहीं किया गया था।
इस अनुच्छेद की वजह से पाकिस्तान से आये शरणार्थियों को जम्मू-कश्मीर की नागरिकता नहीं है,इनमें से 80 फीसदी लोग हिन्दू(दलित और पिछड़े समाज) हैं। भारतीय नागरिकों के साथ कश्मीर में भेदभाव होता है औऱ संविधान से मिले अधिकार खत्म हो जाते हैं।

इसलिए दोस्तो इस अनुच्छेद का हटना बहुत जरूरी था।

अब थोड़ा सा धारा 370 के विषय में भी जान लें ।

जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता है औए उनका झण्डा भी अलग है।
वहाँ पर राष्ट्रीय ध्वज या प्रतीकों के अपमान को अपराध नहीं माना जाता है। देश के सुप्रीम कोर्ट के सभी आदेश जम्मू-कश्मीर में मान्य नहीं होते हैं।
संसद जम्मू-कश्मीर को लेकर सीमित क्षेत्र में ही कानून बना सकती है। रक्षा,विदेश,संचार छोड़कर केंद सरकार के कानून वहाँ लागू नहीं होते है। यदि केंद्र को कोई कानून लागू करना है तो जम्मू-कश्मीर बिधानसभा से सहमति जरूरी है।

वित्तीय आपातकाल के लिए संविधान की धारा 360,356 लागू नहीं।
राष्ट्रपति राज्य का कानून बर्खास्त नहीं कर सकते।
कश्मीर में हिन्दू-सिखों को 16% आरक्षण नहीं।
जम्मू-कश्मीर में 1976 का शहरी कानून लागू नही होता है।

धारा370 को वजह से जम्मू-कश्मीर में RTI औऱ RTE लागू नहीं होती।

जम्मू-कश्मीर विधानसभा का कार्यकाल 5के बजाय6 वर्षों का होगा है।


*अनुच्छेद-370 खत्म होने से होगा ये 10 परिवर्तन *


*1. अब जम्मू-कश्मीर में देश के अन्य राज्यों के लोग भी जमीन लेकर बस सकेंगे।*

*2. कश्मीर का अब अलग झंडा नहीं होगा। मतलब वहां भी अब तिरंगा शान से लहराएगा।*

*3. अनुच्छेद-370 के साथ ही जम्मू-कश्मीर का अलग संविधान भी इतिहास बन गया है। अब वहां भी भारत का संविधान लागू होगा।*

*4. जम्मू-कश्मीर में स्थानीय लोगों की दोहरी नागरिकता समाप्त हो जाएगी।*

*5. जम्मू-कश्मीर के दो टुकड़े कर दिए गए हैं। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख अब अलग-अलग राज्य होंगे।*

*6. दोनों नए राज्य जम्मू-कश्मीर व लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश होंगे।*

*7. जम्मू-कश्मीर में विधानसभा होगी, लेकिन लद्दाख में विधानसभा नहीं होगी। मतलब जम्मू-कश्मीर में राज्य सरकार बनेगी, लेकिन लद्दाख की कोई स्थानीय सरकार नहीं होगी।*

*8. जम्मू-कश्मीर की लड़कियों को अब दूसरे राज्य के लोगों से भी शादी करने की स्वतंत्रता होगी। दूसरे राज्य के पुरुष से शादी करने पर उनकी नागरिकता खत्म नहीं होगी।*

*9. अनुच्छेद-370 में पहले भी कई बदलाव हुए हैं। 1965 तक जम्मू और कश्मीर में राज्यपाल की जगह सदर-ए-रियासत और मुख्यमंत्री की जगह प्रधानमंत्री हुआ करता था।*

*10. अनुच्छेद-370 को खत्म करने की मंजूरी राष्ट्रपति ने पहले ही दे दी थी। दरअसल ये अनुच्छेद पूर्व में राष्ट्रपति द्वारा ही लागू किया गया था। इसलिए इसे खत्म करने के लिए संसद से पारित कराने की आवश्यकता नहीं थी।*


You may also like following articles:-

Faceapp is dangerous for Privacy and Banking Details ?

कलयुग का आरम्भ क्यों हुआ?