नरेन्द्र मोदी:- नए भारत के राष्ट्र निर्माता

हे भारत के राष्ट्र निर्माता,
  मोदी तुमको नमन करूँ,
    जन्मदिन की मैं ढेर बधाई,
      अपने राष्ट्र संग भेंट करूँ,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

2014 में जब बने थे PM,
  भारत का तब भाग्य जगा था,
    खान्ग्रेस UPA शासन,
      भारत में कोहराम मचा था,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

भ्र्रष्टाचार की लूट मची थी,
  आतंकवाद सर चढ़ बोल रहा था,
    कहीं होते थे बम्ब धमाके,
       26 / 11 का ख़ौफ़ रहा था,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

जब संसद पर पहुंचे मोदी जी,
  जब संसद पर शीश झुकाया,
    देवलोक से फूल बरस रहे थे,
      माँ भारती का पुत्र जो आया,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹



नोटबन्दी का प्रहार था पहला,
  हर भृष्टाचारी घबराया ,
    नोटबन्दी हुई थी भारत में,
      पर पाकिस्तान कंगाल बनाया,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

भारत की मुद्रा का जाली,
  कारोबार था जो पाकिस्तान का,
    रद्दी जाली नोट हो गए,
      दिवाला निकला पाकिस्तान का,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

डोकलाम में पापी चीन ने,
  जब भारत में कदम बढ़ाया,
    अंगद रूप धरा मोदी ने,
      हठी चीन को थूक चटाया,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

जब उड़ी सेक्टर में नीच पाक ने,
  20 जवान धौखे से मारे,
    सर्जिकल स्ट्राइक भारत की,
      20 के बदले 40 मारे,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

जब पुलवामा पर्वत चौटी पर,
  44 जवानों का खून बहा था,
     बालाकोट की एयर स्ट्राइक,
       आतंकवाद को कुचल दिया था,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

400 आतंकी बालाकोट में,
  घर में घुस कर मारे थे,
    सारी दुनिया देख रही थी,
      मोदी  मोदी जयकारे थे,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

तीन तलाक मुस्लिम नारी का,
  दर्द वो तुमने जाना था,
    संसद में बिल पास कराके,
      तब मोदी जी माना था,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

धारा 370 ,35 A,
  कूड़े के ढेर में फेंक दई थी,
     CAA को पास कराया,
       वंचित को ये भेंट दई थी,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

जब हठी चीन ने गलवान घाटी में,
  अपने निर्लज्ज पैर जमाए,
    भारत की वीरों की सेना ने,
      50 चीनी जहन्नुम पहुंचाए,
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
    
हे भारत के बाशिन्दों,
  इस मोदी को तुम ना खो देना,
    ये राष्ट्र धरोहर मोदी है,
      ये राष्ट्र धरोहर खो ना देना ।

वंदेमातरम जय श्री राम जय श्री कृष्ण जय श्री राम ।

Written by Ramkumar Yadav .

Friends, If you like this post,Kindly comment below the post and do share your response. Please don't forget to follow and subscribe this blog. Thanks for reading:)

2 comments:

Rishabh Sachan said...

Thanks for reading.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत सुन्दर और यथार्थपरक रचना।

जानिए Feminism और Communism सचान जी के द्वारा आसान शब्दों में ।

Feminism और Communism समझें बहुत ही आसान शब्दों में। नए समाज की वह विधा जिसमें हर काम में उंगली करना सिखाया जाता है उसे Feminism और Communi...