Ram- In every feeling of life.

जीवन के हर भाव मे 'राम'

सभी लोग दिन भर प्रभु श्री राम को किसी न किसी रूप में याद करते ही हैं और यही हमारे मुक्ति का साधन बनेगा।
आइए जानते हैं कि जीवन के हर भाव मे राम कैसे विराजे हुए हैं।

Pic Credit-Google


हे राम -(शोक,दुःख)

हाय राम -(आश्चर्य)

जय श्री राम -(विजयघोष)

जय राम जी की -(अभिवादन)

राम नाम सत्य है -(मुक्ति का मार्ग)

पतित के पावन सीताराम - (पाप से मुक्त करने वाला)

रामराज्य - (सर्वश्रेष्ठ शासन)

राम - (आदर्श के प्रतीक)

Friends, If you like this post,Kindly comment below the post and do share your response. Please don't forget to follow and subscribe this blog. Thanks for reading:)

Six Facts Of Life Which Everybody knows but Don't Accept.

जीवन के 6 ऐसे तथ्य जो बना दें जीवन को आसान और खुशियों से भरपूर।


 1. 45 वर्ष की अवस्था में "उच्च शिक्षित" और "अल्प शिक्षित" एक जैसे ही होते हैं। 

Pic Credit- Google


2. 55 वर्ष की अवस्था में "रूप" और "कुरूप" एक जैसे ही होते हैं। (आप कितने ही सुन्दर क्यों न हों झुर्रियां, आँखों के नीचे के डार्क सर्कल छुपाये नहीं छुपते)

3. 60 वर्ष की अवस्था में "उच्च पद" और "निम्न पद" एक जैसे ही होते हैं। (चपरासी भी अधिकारी को भाव नहीं देता है सेवानिवृत्ति के बाद)।

4. 70 वर्ष की अवस्था में "बड़ा घर" और "छोटा घर" एक जैसे ही होते हैं। (घुटनों का दर्द और हड्डियों का गलना आपको बैठे रहने पर मजबूर कर देता है, आप छोटी जगह में भी गुज़ारा कर सकते हैं)

5. 80 वर्ष की अवस्था में आपके पास धन का "होना" या "ना होना" एक जैसे ही होते हैं। ( अगर आप खर्च करना भी चाहें, तो आपको नहीं पता कि कहाँ खर्च करना है)

6. 90 वर्ष अवस्था में "सोना" और "जागना" एक जैसे ही होते हैं। (जागने के बावजूद भी आपको नहीं पता कि क्या करना है).

जीवन को सामान्य रुप में ही लें क्योंकि जीवन कोई रहस्य नहीं है जिसे आप सुलझाते फिरें और न ही आप प्रभु श्री कृष्ण हैं जो आपके कन्धों पर ब्रह्माण्ड का भार हो।

Pic Credit- Pinterest

आगे चल कर एक दिन हम सब की यही स्थिति होनी है इसलिए चिंता छोड़ कर मस्त रहें स्वस्थ रहें एवं खुश रहें।

यही जीवन है और इसकी सच्चाई भी।

"चैन से जीने के लिए चार रोटी और दो कपड़े काफ़ी हैं 
पर, 
बेचैनी से जीने के लिए चार कार,5 मोबाइल और दस प्लॉट भी कम हैं !!"


Friends, If you like this post,Kindly comment below the post and do share your response. Please don't forget to follow and subscribe this blog. Thanks for reading:)

Ram- In every feeling of life.

जीवन के हर भाव मे 'राम' सभी लोग दिन भर प्रभु श्री राम को किसी न किसी रूप में याद करते ही हैं और यही हमारे मुक्ति का साधन बनेगा। आइए ...